धान खरीदी में लिमिट नहीं बढ़ी तो किसान करेगी आंदोलन…

पखांजूर डेक्स livempcg.com@:- धान खरीदी केंद्र में किसानों ने दी राज्य सरकार को चेतावनी।रोजाना खरीदी की लिमिट नही बढ़ाने पर करेंगे विरोध प्रदर्शन।धान खरीदी केंद्र में धान बेचने को लेकर किसानों की परेशानी बढ़ी।बतादे की कांकेर जिले के आधे से ज्यादा धान परलकोट क्षेत्र से शासन द्वारा खरीदी किया जाता है।इस वर्ष अति बारिश होने के चले किसान पहले ही परेशान हैं एवं किसानों को धान के फसल में बोहत घाटे हुए हैं वही किसान हितैषी भूपेश बघेल की सरकार ने धान खरीदी 15 दिन लेट से सुरु किया जिसका खामियाजा किसानों को ही भुगतना पड़ा है।

बतादे के राज्य सरकार ने हर धान खरीदी केंद्र में खरीदी का लिमिट बोहत कम कर दिया है आज सुबह पखांजूर आदिम जाति सेवा सहकारिता समिति द्वारा संचालित इन्द्रप्रस्थ धान खरीदी केंद्र में किसानों ने जमकर हंगामा किया।समिति प्रबंधक संतराम वर्मा जब इन्द्रप्रस्थ खरीदी केंद्र पहुंचे तो किसानों ने प्रबंधक को घेर कर बुरा भला बताते हुए विरोध प्रदर्शन करने की चेतावनी दी।इन्द्रप्रस्थ में कुल किसानों के8 रकबा करिवन 30,000 क्विंटल की है एवं 1 दिसंबर से खरीदी शुरू किया गया है एवं हप्ताह में शनिवार एवं रविवार के अवकाश के बाद 5 दिन 395 क्विंटल धान लिमिट के अनुसार खरीदी किया जाता हैं 30,हजार क्विंटल की रकबा की खरीदी 392 क्विंटल रोजाना के हिसाब से 4 से 5 माह तक खरीदी करने पर 30 हजार क्विंटल की खरीदी किया जा सकता है।

रोजाना पिछले साल की लिमिट 1000 क्विंटल के हिसाव से किया गया था मगर इस वर्ष किसान हितैषी भूपेश बघेल की सरकार ने 30 हजार के रकवा बाले खरीदी केंद्र में रोजाना 392 क्विंटल खरीदी का लिमिट दिया है जिसके चलते किसानों की परेशानियां बढ़ा दी है किसानों का कहना है कि धान को कब तक घर में रख सकते हैं इसी धान के पैसे से बच्चों की पढ़ाई का फीस बेटी की शादी एवं रवि फसल में मक्का की खेती किया जाता हैं अगर राज्य सरकार द्वारा धान खरीदी की लिमिट बढ़ाया नहीं जाएगा तो किसान मजबूर हो कर धरना प्रदर्शन चक्का जाम करने में मजबूर होगी।

वही धान खरीदी लिमिट मामले में पखांजूर समिति प्रबंधक संतराम वर्मा ने कहा कि शासन द्वारा निर्धारित नियम अनुसार ही खरीदी किया जायेगा,अगर राज्य सरकार खरीदी की लिमिट बढ़ाती हैं तो तत्काल खरीदी का लिमिट बढ़ा दिया जाएगा।अभी तो कंप्यूटर की खरीदी साफ्टवेयर में लिमिट से 10 ग्राम धान भी ज्यादा खरीदी नही किया जा सकता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *